दुनिया की Best 110+ Inspirational Stories In Hindi With Moral

दुनिया की Best 110+ Stories in Hindi with moral

Best 110+ Stories in Hindi with moral image


Stories in Hindi with Moral:- 



चुनिन्दा दुनिया की सबसे अच्छी 110+ inspirational प्रेरक कहानियो का कलेक्शन जिनको पढ़कर  आप रोमांचित हो उठेंगे और आपको जीव जीनेका एक नया नजरिया मिलेगा | 

इन सुंदर बाल कहानियों से आपको जीवन में कुछ सिख मिलेगी जो आपकी आगे की जिंदगी में कही ना कही अवश्य काम आयेगी. इसलिए हर कहानी के Moral यानि सिख को भी कहानी में लिखा गया हे.

तो चलिए शुरू करते हे हिंदी की 110+ सबसे रोमांचित कहानियो का सुंदर सफ़र (110+ Hindi Stories with moral)



110+ Hindi Stories with moral
Best 110+ inspirational Stories in Hindi with moral image

1.प्रेरणादायक कहानिया:- inspirational Hindi stories with moral
2.संतुलित जीवन से ही चित्त को शांति
3.जरा-सी देरी हमारा बना-बनाया खेल बिगाड़ सकती है
4.दूसरों में 'अच्छाइयाँ' दूँढ़ें
5.खम्भे ने पकड़ रखा है!
6.सत्याचरण का प्रभाव
7.गधा रहा गधा ही
8.मूर्ख को सीख
9.बेहतरीन नैतिक कहानिया:- moral stories in Hindi
10.तीन चोर
11.Best kids short stories in Hindi with moral
12.मूल्यवान समय को व्यर्थ होने से बचाएं
13.भाग्य से बढ़कर पुरूषार्थ है
14.विनम्रता का परिचय
15.तत्वों के उचित संयोजन से बनता है हमारा व्यक्तित्व
16.गुरू-भक्ति से मन की शुद्धि
17.जीवन से मत भागो, जिओ उद्देश्य के लिए"


panchtantra moral Stories in Hindi
Best panchtantra 110+ Stories in Hindi with moral image

18.सच्चे मित्र
19.सच्चा शासक
20.संगठन की शक्तिट



Tenali rama Hindi moral stories

Best tenali rama Stories in Hindi with moral image

67.तेनालीराम और लाल मोर
68.तेनालीराम का मरियल घोड़ा
69.तेनालीराम का बोलने वाला बुत: A moral story
70.तेनालीराम की घोषणा
71.नाई की उच्च नियुक्ति
72.चोरी 
73.बहुरुपिए हैं या राजगुरु
74.पाप का प्रायश्चित
75.बिल्ली के लिए गाय
76.मनहूस रामैया
77.सीमा की चौकसी
78.हाथियों का उपहार
79.तपस्या का सच
80.तेनालीराम की समझदारी
81.तेनाली एक योद्धा
82.तेनालीराम और चोटी का किस्सा
83.तेनालीराम और लाल मोर

Tenali rama Stories
Best bedtime 110+ Stories in Hindi with moral image

84.40+ Best Collection of Tenali Rama stories in Hindi with moral:- हिंदी में

Adventure Hindi Stories

85.ऊंट का कूबड़
86.कितने कौवे
87.कीमती उपहार 
88.कुत्ते की दुम सीधी: A moral story
89.बड़ा कौन?
90.खूंखार घोड़ा
91.जनता की अदालत
92.जाड़े की मिठाई
93.स्वप्न महल
94.कैसे कौए हुए काले: A moral story
95.मैले कपडे
96.नागरिक का फर्ज
97.धोखेबाज का अंत: A moral story
98.पत्नी से मिली सजा
99.कबूतर की अतिथि सेवा
100.बकरा, ब्राह्मण और तीन ठग
101.तेनालीराम और सोने के आम
102.अपराधी


Short Hindi moral value stories


moral value Hindi stories @1


चमड़े कि धोती 



कभी किसी ने एक घमण्डी साधु को चमड़े की धोती दान में दे दी जिसे पहन कर वह साधु अपने को अन्य साधुओं से श्रेष्ठ समझाने लगा।



एक दिन वह उसी वस्र को पहन कर भिक्षाटन के लिए घूम रहा था। रास्ते में उसे एक बड़ा सा जंगली भेड़ मिला। वह भेड़ पीछे को जाकर अपना सिर झटक-झटक कर नीचे करने लगा। साधु ने समझा कि निश्चय ही वह भेड़ झुक कर उसका अभिवादन करना चाहता था, क्योंकि वह एक श्रेष्ठ साधु था; जिसके पास चमड़े के वस्र थे।



तभी दूर से एक व्यापारी ने साधु को आगाह करते हुए कहा: "हे ब्राह्मण! मत कर तू विश्वास किसी जानवर का; बनते है; वे तुम्हारे पतन का क्करण जाकर भी पीछे वे मुड़ कर करते हैं आक्रमण।"



राहगीर के इतना कहते-कहते ही उस जंगली भेड़ ने साधु पर अपने नुकीले सींग से आक्रमण कर नीचे गिरा दिया। साधु का पेट फट गया और क्षण भर में ही उसने अपना दम तोड़ दिया।



moral value Hindi stories @2

चांद पर खरगोश
hare on moon Story in Hindi with moral image

गंगा के किनारे एक वन में एक खरगोश रहता था। उसके तीन मित्र थे - बंदर, सियार और ऊदबिलाव। चारों ही मित्र दानवीर बनना चाहते थे। एक दिन बातचीत के क्रम में उन्होंने उपोसथ के दिन परम-दान का निर्णय लिया क्योंकि उस दिन के दान का संपूर्ण फल प्राप्त होता है। ऐसी बौद्धों की अवधारणा रही है। (उपोसथ बौद्धों के धार्मिक महोत्सव का दिन होता है)

जब उपोसथ का दिन आया तो सुबह-सवेरे सारे ही मित्र भोजन की तलाश में अपने-अपने घरों से बाहर निकले। घूमते हुए ऊदबिलाव की नज़र जब गंगा तट पर रखी सात लोहित मछलियों पर पड़ी तो वह उन्हें अपने घर ले आया। उसी समय सियार भी कहीं से दही की एक हांडी और मांस का एक टुकड़ा चुरा, अपने घर को लौट आया। उछलता-कूदता बंदर भी किसी बाग से पके आम का गुच्छा तोड़, अपने घर ले आया। तीनों मित्रों ने उन्हीं वस्तुओं को दान में देने का संकल्प लिया। किन्तु उनका चौथा मित्र खरगोश तो कोई साधारण प्राणी नहीं था। उसने सोचा यदि वह अपने भोजन अर्थात् घास-पात का दान जो करे तो दान पाने वाले को शायद ही कुछ लाभ होगा। अत: उसने उपोसथ के अवसर पर याचक को परम संतुष्ट करने के उद्देश्य से स्वयं को ही दान में देने का निर्णय लिया।

उसके स्वयं के त्याग का निर्णय संपूर्ण ब्रह्माण्ड को दोलायमान करने लगा और सक्क के आसन को भी तप्त करने लगा। वैदिक परम्परा में सक्क को शक्र या इन्द्र कहते हैं। सक्क ने जब इस अति अलौकिक घटना का कारण जाना तो सन्यासी के रुप में वह उन चारों मित्रों की दान-परायणता की परीक्षा लेने स्वयं ही उनके घरों पर पहुँचे। ऊदबिलाव, सियार और बंदर ने सक्क को अपने-अपने घरों से क्रमश:
मछलियाँ; मांस और दही ; एवं पके आम के गुच्छे दान में देना चाहा। किन्तु सक्क ने उनके द्वारा दी गयी दान को वस्तुओं को ग्रहण नहीं किया। फिर वह खरगोश के पास पहुँचे और दान की याचना की। खरगोश ने दान के उपयुक्त अवसर को जान याचक को अपने संपूर्ण शरीर के मांस को अंगीठी में सेंक कर देने का प्रस्ताव रखा। जब अंगीठी जलायी गयी तो उसने तीन बार अपने रोमों को झटका ताकि उसके रोमों में बसे छोटे जीव आग में न जल जाएँ। फिर वह बड़ी शालीनता के साथ जलती आग में कूद पड़ा।

सक्क उसकी दानवीरता पर स्तब्ध हो उठे। चिरकाल तक उसने ऐसी दानवीरता न देखी थी और न ही सुनी थी।

हाँ, आश्चर्य ! आग ने खरगोश को नहीं जलाया क्योंकि वह आग जादुई थी; सक्क के द्वारा किये 
गये परीक्षण का एक माया-जाल था।

सम्मोहित सक्क ने तब खरगोश का प्रशस्ति गान किया और चांद के ही एक पर्वत को अपने हाथों से मसल, चांद पर खरगोश का निशान बना दिया और कहा,

"जब तक इस चांद पर खरगोश का निशान रहेगा तब तक हे खरगोश ! जगत् तुम्हारी दान-वीरता को याद रखेगा।"
Moral Of Hindi story:- हमेशा दानवीर प्रवृति रखे। 

moral value Hindi stories @3

बुद्धिमान मुर्गा
wise cock Stories in Hindi with moral image

अपने सैकड़ों रिश्तेदारों के साथ किसी वन में एक मुर्गा रहता था। अन्य मुर्गों से वह कहीं ज्यादा बड़ा और हृष्ट-पुष्ट भी था। उसी वन में एक जंगली बिल्ली रहती थी। उसने मुर्गे के कई रिश्तेदारों को मार कर चट कर लिया था। उसकी नज़र अब उस मोटे मुर्गे पर थी। अनेक यत्न करने पर भी वह उसे पकड़ नहीं पाती थी। अँतत: उस ने जुगत लगाई और एक दिन उस पेड़ के नीचे पहुँची जिसके ऊपर वह मुर्गा बैठा हुआ था। बिल्ली ने कहा, " हे मुर्गे ! मैं तुमसे प्यार करती हूँ। तुम्हारी सुन्दरता पर मुग्ध हूँ। तुम्हारे पंख और कलगी बडे आकर्षक हैं। मुझे तुम अपनी पत्नी स्वीकार करो और तत्काल नीचे आ जाओ, ताकि मैं तुम्हारी सेवा कर सकूँ।

मुर्गा बड़ा बुद्धिमान् था। उसने कहा :-

" ओ बिल्ली ! तेरे हैं चार पैर
मेरे हैं दो 
ढूँढ ले कोई और वर
तू है क्योंकि
सुन्दर
होते नहीं कभी एक
पक्षी और जंगली जानवर।"

बिल्ली ने मुर्गे को जब फिर से फुसलाना चाहा तो मुर्गे ने उससे कहा,

" ओ बिल्ली तूने मेरे रिश्तेदारों का
खून पिया है। मेरे लिए भी तेरे मन में
कोई दया-भाव नहीं है। तू फिर क्यों
मेरी पत्नी बनने की इच्छा जाहिर कर रही है ?"

मुर्गे के मुख से कटु सत्य को सुनकर और स्वयं के ठुकराये जाने की शर्म से वह बिल्ली उस जगह
से तत्काल प्रस्थान कर गयी, और उस पेड़ के आस-पास फिर कभी भी दिखाई नहीं पड़ी।
Moral of Hindi Story :- कभी किसी का फायदा मत उठाओ 


moral value Hindi stories @4

कालबाहु

एक बार किसी ने दो तोते-भाइयों को पकड़ कर एक राजा को भेंट में दिया। तोतों के गुण और वर्ण से प्रसन्न हो राजा ने उन्हें सोने के पिंजरे में रखा, उनका यथोचित सत्कार करवाया और प्रतिदिन शहद और भुने मक्के का भोजन करवाता रहा। उन तोतों में बड़े का नाम राधा और छोटे का नाम पोट्ठपाद था।

एक दिन एक वनवासी राजा को एक काले, भयानक बड़े-बड़े हाथों वाला एक लंगूर भेंट में दे गया। गिबन प्रजाति का वह लंगूर सामान्यत: एक दुर्लभ प्राणी था। इसलिए लोग उस विचित्र प्राणी को देखने को टूट पड़ते। लंगूर के आगमन से तोतों के प्रति लोगों का आकर्षण कम होता गया ; और उनके सरकार का भी।

लोगों के बदलते रुख से खिन्न हो पोट्ठपाद खुद को अपमानित महसूस करने लगा और रात में उसने अपने अपने मन की पीड़ा राधा को कह सुनाई। राधा ने अपने छोटे भाई को ढाढस बँधाते हुए समझाया," भाई ! चिंतित न हो ! गुणों की सर्वत्र पूजा होती है। शीघ्र ही इस लंगूर के गुण दुनिया वालों के सामने प्रकट होंगे और तब लोग उससे विमुख हो जाएंगे।"

कुछ दिनों के बाद ऐसा ही हुआ जब नन्हें राजकुमार उस लंगूर से खेलना चाहते थे इस तो लंगूर ने अपना भयानक मुख फाड़, दाँतें किटकिटा कर इतनी जोर से डराया कि वे चीख-चीख कर रोने लगे। बच्चों के भय और रुदन की सूचना जब राजा के कानों पर पड़ी तो उसने तत्काल ही लंगूर को जंगल में छुड़वा दिया।

उस दिन के बाद से राधा और पोट्ठपाद की आवभगत फिर से पूर्ववत् होती रही।
Moral of Hindi Story :-हमेशा लोगो लोगो की किम्मत करना सीखो। 


moral value Hindi stories @5

चार मोमबत्तियां


four candles Story in Hindi with moral image

रात का समय था, चारों तरफ सन्नाटा पसरा हुआ था , नज़दीक ही एक कमरे में चार मोमबत्तियां जल रही थीं। एकांत पा कर आज वे एक दुसरे से दिल की बात कर रही थीं।
पहली मोमबत्ती बोली, ” मैं शांति हूँ , पर मुझे लगता है अब इस दुनिया को मेरी ज़रुरत नहीं है , हर तरफ आपाधापी और लूट-मार मची हुई है, मैं यहाँ अब और नहीं रह सकती। …” और ऐसा कहते हुए , कुछ देर में वो मोमबत्ती बुझ गयी।

दूसरी मोमबत्ती बोली , ” मैं विश्वास हूँ , और मुझे लगता है झूठ और फरेब के बीच मेरी भी यहाँ कोई ज़रुरत नहीं है , मैं भी यहाँ से जा रही हूँ …” , और दूसरी मोमबत्ती भी बुझ गयी।

तीसरी मोमबत्ती भी दुखी होते हुए बोली , ” मैं प्रेम हूँ, मेरे पास जलते रहने की ताकत है, पर आज हर कोई इतना व्यस्त है कि मेरे लिए किसी के पास वक्त ही नहीं, दूसरों से तो दूर लोग अपनों से भी प्रेम करना भूलते जा रहे हैं ,मैं ये सब और नहीं सह सकती मैं भी इस दुनिया से जा रही हूँ….” और ऐसा कहते हुए तीसरी मोमबत्ती भी बुझ गयी।

वो अभी बुझी ही थी कि एक मासूम बच्चा उस कमरे में दाखिल हुआ।

मोमबत्तियों को बुझे देख वह घबरा गया , उसकी आँखों से आंसू टपकने लगे और वह रुंआसा होते हुए बोला ,
“अरे , तुम मोमबत्तियां जल क्यों नहीं रही , तुम्हे तो अंत तक जलना है ! तुम इस तरह बीच में हमें कैसे छोड़ के जा सकती हो ?”

तभी चौथी मोमबत्ती बोली , ” प्यारे बच्चे घबराओ नहीं, मैं आशा हूँ और जब तक मैं जल रही हूँ हम बाकी मोमबत्तियों को फिर से जला सकते हैं। “

यह सुन बच्चे की आँखें चमक उठीं, और उसने आशा के बल पे शांति, विश्वास, और प्रेम को फिर से प्रकाशित कर दिया।

मित्रों , जब सबकुछ बुरा होते दिखे ,चारों तरफ अन्धकार ही अन्धकार नज़र आये , अपने भी पराये लगने लगें तो भी उम्मीद मत छोड़िये….आशा मत छोड़िये , क्योंकि इसमें इतनी शक्ति है कि ये हर खोई हुई चीज आपको वापस दिल सकती है। अपनी आशा की मोमबत्ती को जलाये रखिये ,बस अगर ये जलती रहेगी तो आप किसी भी और मोमबत्ती को प्रकाशित कर सकते हैं।
Moral of Hindi Story :-हमेशा अपने हौशले बुलंद रखे।




Post a Comment

0 Comments