शेर की कहानी:- Lion Hindi story with moral

Sher ki Kahani:- Lion Hindi story with moral

Sher ki Kahani:- Lion Hindi story with moral where a lion is playing with his cub

एक बार की बात हे एक जंगल में एक शेर रहता था उसके एक बेबी शेर था और उस बेबी शेर की एक माँ थी mummy शेर . बेबी शेर का जन्मदिन आने वाला था

और वो जल्द ही एक साल का होने वाला था. बेबी शेर अपने जन्मदिन को लेकर बहुत खुश था उसने अपने mummy शेर को कहा की हम मेरे जन्मदिन पर जंगले के सभी जानवरों को बुलाएँगे तो उसके पिता ने उसको जवाब दिया की बेटा हम ऐसा नही क्र सकते क्योकि हम शेर हे और हम जानवरों का शिकार करते हे न की उनको शेरो की जन्मदिन की पार्टी में बुलाते हे  तो बेबी शेर कहता की हम उन्हें मेरे जन्मदिन पर नही खाएंगे बल्कि हम सभी मिलकर मेरा जन्मदिन मनाएंगे और केक खायेंगे .

 तो बेबी शेर की माँ बेबी शेर को कहती हे की केक खाने से तुम्हारे दांत खराब हो जायेंगे इसलिए हम सिर्फ और सिर्फ जंगली जानवरों को ही खायेगे पर  बेबी शेर की जिद करने पर बेबी शेर का पिता बेबी शेर की बात मन लेता हे और उसकी माँ को कहता हे की उसे उसके जन्मदिन पर केक खा लेने  देना चाहिए वेसे भी कोनसा रोज रोज वो केक खा रहा हे तो बेबी शेर की माँ शेर की बात मन लेती हे और जंगले के सभी जानवरों को निमंत्रण  भेजने के लिए राजी हो जाती हे.


 उसी बिच बेबी  शेर  अपने पापा से कहता हे की हम बंदरो को मेरे जन्मदिन पर नही बुलाएंगे  क्योकि वो हमारे उपर पत्थर फेंकते हे . और यह कहकर बेबी शेर अपने कमरे में सोने चला जाता हे .

जब रात को बेबी शेर सो रहा होता हे तो उसकी माँ शेर  से पूछती हे की मुझे जन्मदिन की तेयारी के लिए बहुत  सारी सामग्री चाहिये होगी जो हमे दूर से लानी पड़ेगी और हमे इसके लियी शहर से एक बस की जरूरत पड़ेगी तो शेर कहता की हम शेर हे हम शहर से बस नही ला सकते हे परन्तु बन्दर यह काम कर  सकते हे .

Sher ki Kahani:- Lion Hindi story with moral in which all animals presents in jungle

 जेसे ही सुबह हुए शेर बंदरो के पास जाता हे शेर को देख क्र बन्दर शेर पर पत्थर फ़ेंकने लग जाते हे तो शेर उनको समजाता हे की वो वहा उनको खाने नही आया हे
Sher ki Kahani:- Lion Hindi story with moral where monkey is thinking

तो एक बुढा बन्दर शेर को कहता हे की तुम अगर हमे खाने नही आये हो तो किस चीज के लिए आये हो तो शेर उनको कहता के कुछ दिनों बाद मेरे बेबी शेर का  जन्मदिन हे

और वो अपने जन्मदिन पर पार्टी चाहता हे तो जेसा की तुम शहर जाते रहते हो और तुम बंदरो को शहर की चीजो का पता रहता हे तो मुझे तुमसे यह मदद चाहिए थी की तुम एक बस का इंतज़ाम करो जिसमे बेबी शेर की माँ कुछ दिन शहर में जाकर जन्मदिन के लियी  आवश्यक ची ले सके जेसे टोपी , गुब्बारे और केक और शेर बन्दर को कहता की एक उपहार भी लेते आना तो बुढा बन्दर कहता की किस तरह का उपहार ?

तो शेर कहता हे जेसे की कोई जानवर जेसा खिलौना जिससे की मेरा बेटा शिकार करने का अभ्याश क्र सके तो  बन्दर कहता की इन सब में हम बंदरो का क्या  फायदा तो शेर कहता की हम शेर लोग तुम्हारा तीन महीने तक शिकार नही करेंगे औरर  तुम से दूर र्हेंन्गे लेकी इसके बदले तुम्हे भी वादा करना होगा की तुम बन्दर हमारे पे पथर नही फेकोंगे तो शेर की यह बात बन्दर को पसंद आ जाती हे और वो हामी भर लेता हे.


डैडी शेर ने दूर से देखा की तीन बंदरों ने 44 नंबर की बस पकड़ी और एक शॉपिंग ट्रिप पर शहर चले  गए।
"ठीक है, हमें आपकी चीजें मिल गई हैं,  बंदर ने कहा कि वे लौट आए।

यदि आप शेर अपनी दूरी बनाए रखते हैं, तो हम उन्हें पेड़ से थोड़ी दूरी पर रख देंगे। मैं चाहता हूं कि सभी शेर वहीं हों, जहां मैं उन्हें देख सकता हूं।""हमने वादा किया कि आप कोशिश नहीं करेंगे और आप हमे नही  खाएंगे।

""हाँ, चलो ठीक है, प्रलोभन नहीं दे रहा हु , हम करेंगे, डैडी शेर ने जवाब दिया।
Sher ki Kahani:- Lion Hindi story with moral where his cub his getting surprised

बर्थडे पार्टी का दिन आ गया।राइनो एक उपहार के साथ जो की एक चट्टान के एक छोटा सा टुकड़ा था क्योकि अफ्रीका की जमीं पर चट्टानों के अलावा ऐसा कोए उपहार नही हे जो दिया जा सके ।

हिप्पोस भी वह पहुंचे और वे एक उहार  के रूप में कुछ घास लाए थे, फिर अन्य जानवर अपने उपहारों के साथ पहुंचे, जिनमें ज्यादातर चीजें शामिल थीं जो जिनमे  पत्तियों, घास या पत्थरों के अलावा और कुछ अलग नही था ।


 एक विचारशील, नर्वस गज़ेल एक फूल लाने में कामयाब रही। बेबी सिंह ने फिर उसे अपने कान के पीछे लगाया।मम्मी शेर ने फिर केक निकाला और सभी जानवरों को दहाड़ते हुए, चीखते हुए और जन्मदिन मुबारक गाने की कोशिश की।

"मोमबत्ती कहाँ है?" बेबी सिंह ने पूछा। "मैं एक मोमबत्ती को बुझाना  चाहता था।"“मोमबत्ती कहाँ है?” मम्मी शेर ने पूछा।

डैडी सिंह ने कहा, "की शायद बंदरो के पास ही रह गए होगी कोइ ना आप सभी केक खाओ और उसके बाद एक बदिया सा चिकन भी रखा हे तो बेबी शेर की माँ कहती हे की किस का चिकन तो शेर कहता हे की मुझे नही पता लेकिन यह चिकन जब बन्दर शहर गये थे तब वहा से लेके आये थे इसमें से एक श्र्तुर्मुर्ग की खुशबु आ रही थी .

 शेर बंदरो के पास गया  और खा की बंदरो केक पे लगानी के लिए मोमबतिया कहा  ही तो बन्दर कहता हे की कोंसी मोमबती अपने तो कोए मोमबती लाने को नही कहा था .

 तो शेर कहता हे की मोमबत्ती के बिना कोइ केसे जन्मदिन मना सकता हे तप बन्दर कहता हे की सरकार मुझे माफ़ करना पर न तो शेरो ने और न बंदरो को आग जलाना आता ही तो आप मोमबत्ती जलाएंगे केसे .

तो शेर परेशानी में पड़ जाता हे तो बन्दर कहता की उसके पास एक आईडिया हे क्यों न हम मोमबत्ती की जगह पर केक पर लडकी लगा दे और बेबी शेर को बुझाने को बोले क्योकि बेबी शेर नही जनता हे की मोमबत्ती केसे दिखती हे तो शेर कहता की चलो एक बार तुम्हारा आईडिया अजमा के देखते हे.

 डैडी शेर पार्टी में वापस चला गया जहाँ बेबी शेर केक और चिकन को खा  रहा था और अपने उपहारों  को खोल रहा था। वह मोमबत्तियों की कमी के बारे में भूल गया था।

"यह क्या है?" बेबी सिंह ने पूछा।मम्मी शेर ने जवाब दिया, "यह एक खिलोने का  शेर है," मम्मी शेर ने कहा। हमने बंदरों से पूछा ... ओह, वे नासमझ हैं।

"वैसे यह मेरा अब तक का सबसे अच्छा जन्मदिन है।""उनके पिता का यह एकमात्र जन्मदिन है," उन्होंने कहा।"मेरे पास चिकन, केक हे , साथ खेलने के लिए एक खिलोने का शेर  है और साथ ही कुछ अच्छी चट्टानें  हैं।

 मैं चिकन की हडीयो से बडीया घर बनाऊंगा ।
 ""आप जरुर बनायेंगे , हालांकि आपको गिद्धों और हाइना का पीछा करना पड़ सकता है।आप जानते हैं कि वे हड्डियों के साथ क्या पसंद करते हैं। "इस तरह शेर ने अपने बेबी शेर का जन्मदिन धूमधाम से मनाया ".

Moral of Hindi story:- हमेशा मिल झूल कर सभी कार्य करने  चाहिए।  

Post a Comment

0 Comments