अच्छाई की जीत-Victory of good-Hindi Moral Story For Kids

शरारती लड़का सोनू अच्छा लड़का बन गया

एक बहुत ही शैतान लड़का था| जिसका नाम सोनू था. सोनू अपनी शैतानियां से सबको बहुत परेशान करता था. उसके स्कूल में कोई भी मित्र नहीं बनते थे| सोनू की शैतानी हरकतों की वजह से सब उससे दूर रहते थे|

1 दिन की बात है सोनू अपने स्कूल से घर जाने के लिए निकला. रास्ते में उसने अपने स्कूल के एक लड़के को बहुत परेशान किया. उस लड़के का नाम मिंटू था|

सोनू ने मिंटू को धक्का देकर कीचड़ में गिरा दिया| पहले तो मिंटू को बहुत गुस्सा आया जिस वजह से मिंटू और सोनू की लड़ाई हो गई| पर मिंटू एक बहुत ही समझदार लड़का था. इसीलिए वह सोनू को ध्यान ना देते हुए अपने घर की ओर चल दिया|

कुछ दिन बाद स्कूल से लौटते समय सोनू अपनी मस्ती में चल रहा था| मस्ती में चलते चलते उसके आगे गड्ढा आ गया जिस पर उसका ध्यान न गया| सोनू गिर गया और उसका पैर उस गड्ढे में फस गया| सोनू के बहुत कोशिश करने के बाद भी वह अपना पाव वहां से निकालना पाया|

उसी समय नजदीक से मिंटू अपने घर की तरफ जा रहा था| मिंटू की नजर परेशान सोनू पर पड़ी जिसका एक पैर गड्ढे में फंसा हुआ था| मिंटू तुरंत ही सोनू के पास उसकी मदद करने के लिए गया|

मिंटू की मदद से सोनू का पाव गड्ढे से निकल गया| मिंटू के मददगार हाथ देखकर सोनू को अपनी गलतियों का एहसास हो गया और सोनू ने मिंटू से माफी मांगी| मिंटू ने सोनू को तुरंत ही माफ कर दिया| अब सोनू और मिंटू बहुत अच्छे दोस्त बन गए| धीरे-धीरे सोनू सुधरने लगा| अब सोनू के उसके स्कूल में बहुत सारे मित्र बनने लगे| सोनू और उसके माता, अब बहुत खुश थे|

इस कहानी से हमें दो सीख मिलती है.

चाहे कोई कितना भी बुरा क्यों ना हो, हमें हमेशा अच्छा बर्ताव करना चाहिए. हमारी अच्छाइयां देखकर लोगों की सोच बदल सकती है.

जब भी किसी को हमारी मदद की जरूरत हो. हमें हमेशा उनकी मदद करनी चाहिए.

Leave a Comment