एक बचे की अनसुनी कनही - वो राजा जो मुर्ख और अभिमानी था।

Kids Stories एक बचे की अनसुनी कनही - वो राजा जो मुर्ख और अभिमानी था।

एक बचे की अनसुनी कनही - वो राजा जो मुर्ख और अभिमानी था।


मुर्ख और अभिमानी राजा के बचे की कहानी

(Murkh or Abhimani Raja ke bache ki kahani)


एक बचे की अनसुनी कनही : एक रामपुर नाम का गांव था । गांव मे शेखसिन्ह नाम का राजा रहा करता था । राजा बहुत ही मुर्ख और अभिमानी था वह अपने राज्य के सभी प्रजा पर जुर्म करता था ।


जैसे कि उनसे अधिक धन छीनना, कर वसूलना । प्रजा से गलती न होने पर भी फासी जैसे सजा दे देता था ।


प्रजा अपने राजा से पुरी तरह से हैरान हो चुके थे ।


उसी गांव मे एक बुद्धिसिंह  नाम का एक बुद्धिमान व्यक्ति था । गांव वाले बुद्धिसिंह से मदद मांगने और राजा को सुधारने कि बात की ।


बुद्धिसिंह राजा को सुधारने के लिये तरकीब सोचा और राजा के महल मे चला गया और राजा कब क्या करता है उसको देखने लग गया ।


वैसे तो राजा के आस पास दो सैनिक रहते थे लेकिन बड़े चतुराई से राजा कब क्या करता है वह देख लिया ।


उसके बाद वह पाँच गांव वालो को बुलाकर नदी के पास के पेड़ के नीचे खड्डा खोद्वा दिया और उसमे एक अजगर डाल दिया ।


खड्डे के उपर पेड़ का डाल बिछाकर पत्ते डाल दिया और वही से रस्सी गिराकर पेड़ से बांधकर जाल बिछा दिया ।


दुसरे दिन जैसे ही राजा घूमते – घूमते जंगल मे उस नदी के किनारे पेड़ के निचे जैसे ही पहुँचा कि रस्सी उनके पैर मे बंध गयी और राजा खड्डे कि ओर उलटा हो गये ।


बुद्धिसिंह पेड़ पर बैठकर रहे थे । और वहा एक बाघ भी आ गया । सैनिको ने बाघ के देखते ही वहा से भाग निकले ।


राजा को निकलने का कोई मार्ग नही था । क्योकि खड्डे मे अजगर और बाहर बाघ था ।


बुद्धिसिंह का तरकीब बिलकुल अच्छे से सफल हो गया ।


राजा खुब चिल्ला रहा था कि बचाओ मुझे बचाओ लेकिन कोई बचाने नही आया कि तभी पेड़ पर बैठे.


बुद्धिसिंह ने कहा :- मुर्ख राजा तु अपने आप को भगवान मानता है ।


राजा ने कहा :- तुम कौन हो


बुद्धिसिंह ने कहा :- मै तेरा भगवान


राजा ने कहा :- मुझे माफ कर दो भगवान मुझसे बहुत बड़ी गलती हो गयी मुझे बचा लो भगवान ।


बुद्धिसिंह ने कहा :- तो तु क्यों प्रजा पर जुल्म करता है और बिना गलती के सजा क्यों देता है ।


राजा ने कहा :- भगवान मुझे माफ कर दो मै दुबारा ऐसी गलती नही करूँगा ।


बुद्धिसिंह भगवान कि आवाज मे राजा को समझाया और छुप कर पेड़ से उतरा और गांव वालो को बुला लाया । गांव वाले राजा को बचा लिया ।


दुसरे दिन से राजा पुरी तरह से बदल गये और प्रजा के कल्याण के काम करना शुरु कर दिये और प्रजा भी खुश हो गयी ।


नई कहानिया :-

  • Description

    एक बचे की अनसुनी कनही : एक रामपुर नाम का गांव था । गांव मे शेखसिन्ह नाम का राजा रहा करता था । राजा बहुत ही मुर्ख और अभिमानी था ...
  • Publisher

    Admin
  • Tag

    Kids Stories Long Stories Moral Stories Princess Stories Story in Hindi